अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी समिति
  International Hindi Association
 Since 1980 
मुख्य प्रष्ठ   ●   हमारे बारे में    ●   हिन्दी भाषा
ABOUT HINDI
हिन्दी भाषा

हिन्दी विश्व की चार प्रमुख सर्वाधिक बोले जाने वाली भाषाओं में से एक है । विश्व भर में पचास करोड़ से भी अधिक लोग हिन्दी भाषी हैं । हिन्दी समझने वालों की संख्या तो साठ करोड से भी अधिक है । भारत में चार सौ से अधिक बोलियां एवं भाषाऐं प्रचलित हैं परन्तु भारत की राजभाषा होने का गौरव हिन्दी को ही मिला है। भारत के अतिरिक्त अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, मारीशस, हालैंड, गयाना, सूरीनाम, फ़िजी, इंग्लैंड, नेपाल, अरब देश, सिंगापुर आदि देशों में भी हिन्दी का प्रयोग निरन्तर बढ़ रहा है ।

हिन्दी का मूल स्त्रोत संस्कृत है । संस्कृत भारतीय-यूरोपीय भाषाओं के परिवार का अंग है । हिन्दी द्रविड, रूसी, अरबी, फ़ारसी, पुर्तगाली एंव अँग्रेज़ी आदि भाषाओं से प्रभावित होती रही है । इन भाषाओं के प्रभाव से समृद्ध भी हुई है । अनेक बोलियों (लोक-भाषाओ) का प्रयोग भी हिन्दी भाषा में बहुधा होता रहा है । खड़ी बोली, बृज भाषा, मारवाड़ी, बुंदेली, कनौजी, छत्तीसगढ़ी, बघेली, अवधी एवं भोजपुरी भाषाएँ हिन्दी का अभिन्न अंग बन गईं हैं । लेखन के लिए हिन्दी 'देवनागरी' लिपि का प्रयोग करती है । देवनागरी विश्व की प्राचीनतम लिपि है इसमें चौंतीस व्यंजन एवं बारह स्वर हैं । इन स्वर एबं व्यंजनों के गुंथन से मनोरम शब्द बनते हैं एवं इनका सहजतापूर्वक लैटिन भाषाओं की रोमन लिपि में अनुवाद किया जा सकता है ।

हिन्दी एक प्रभावशाली एंव अभिव्यक्तिपूर्ण भाषा है । कविता एंव गीतों में इसकी सरल एंव सरस शब्दावली सहजतापूर्वक भावों को प्रस्फुटित कर सकती है । साथ ही सटीक तर्क एंव चिंतन भी हिन्दी भाषा सहजता से प्रकट कर सकती है । भारत के विश्व - अर्थ जगत मे प्रवेश के साथ ही हिन्दी को प्रचलित भाषा के रूप मे सम्मान मिला है । अब व्यवसायों एंव विद्यालयों में हिन्दी की आवश्यकता को अनुभव किया जा रहा है।

१९६० एंव १९७० के दशक में उत्तरी अमेरिका में हिन्दी बोलने वालो की संख्या कम थी । प्रवासी भारतीयों को हिन्दी बोलने में संकोच होता था । परंतु नब्बे के दशक में वैश्वीकरण के साथ स्थिति बदल गई है । अब भारतीय हिन्दी बोलने में गौरव का अनुभव करते हैं । अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी समिति की बढ़ती हुई सदस्यता एंव लोकप्रियता इसका प्रमाण है ।

Hindi is the second most spoken language in the world. About 500 million people speak Hindi in India and abroad, and the total numbers of people who can understand the language are around 800 million. It is the official language of India, home of over 400 different languages and dialects. In diasporic context, Hindi is spoken in 17 countries, mostly in Africa, Australia, New Zealand, Europe, Fiji, Guyana, Surinam, Trinidad, United Arab Emirates, Nepal, Singapore, Mauritius, United Kingdom and United States.

Hindi is a direct descendant of Sanskrit, and belongs to the Indo-European language family. It has been influenced and enriched by Dravidian, Turkish, Persian, Arabic, Portuguese and English. Several dialects of Hindi have been used in literature. Braj before, and Khari Boli now is the standard dialect. Marwari, Bundeli, Kanauji, Chattisgarhi, Bagheli, Avadhi and Bhojpuri are other popular dialects of Hindi. Written left to right, Hindi uses the Devanagari script - one of the world's most attractive scripts. Devanagari has 34 consonants and 12 vowels - though diacritics indicate the vowels. Consonant clusters are formed into ligatures, which have a particularly ornate form. The language can be transliterated into a Latin script.

Hindi is a powerful and expressive language. In poetry and songs it can convey emotions using simple and gentle words. It can also be used for exact and rational reasoning. With globalization and India’s aggressive entry in world market, Hindi has become a more widely recognized tongue than ever before and is gaining importance in trade and security, and in schools.

A very few migrating Indians in North America spoke Hindi in the early days of 1960s and 70s. They used to feel shy in using it in their day-to-day lives. But since the globalization in 1990s, the situation has changed and Indians feel proud of their language and culture. Hindi has gradually become the link language and the majority now uses it in their day-to-day lives as evident from our growing membership and patronage.

 
 
मुख्य प्रष्ठ  *   संपर्क करें  *   ब्लोग  *   खरीदें ( टिकट  *   पुस्तकें , सीडी )  हमारे बारे में ( हिन्दी भाषा  *   प्रष्ठभूमि  *   उद्देश्य  *   उपलब्धियां  *   निदेशक मंडल  *   संविधान )  पिछले अंक ( विश्वा )  पिछले वृत्तांत ( प्रेस विज्ञप्तियाँ  *   पूर्व अध्यक्ष, पिछले सम्मेलन  *   समिति चित्रावली  *   कविसम्मेलन चित्रावली  *   अधिवेशन चित्रावली )  हिन्दी शिक्षण ( हिन्दी स्कूल सूची  *   याचिका )  साधन स्त्रोत ( कुछ लिंक  *   अमेरिका और विदेशों में हिन्दी )  साहित्य ( काव्य पाठ  *   अविस्मरणीय  *   विशिष्ट लेखक और कवि  *   गद्ध और लेख  *   काव्य  *   व्यंग्य ) 

Copyright © International Hindi Association. All Rights Reserved.   Powered By: B24 e solutions